• श्री कृष्णा न्यूरो एवं मानसिक रोग चिकित्सालय में संगोष्ठी आयोजित
जौनपुर। नगर के नईगंज स्थित श्री कृष्णा न्यूरो एवं मानसिक रोग चिकित्सालय में संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इस मौके पर न्यूरो एवं मानसिक रोग विशेषज्ञ डॉ. हरिनाथ यादव ने संगोष्ठी को संबोधित करते हुए कहा कि इस समय प्रतियोगी परीक्षा चल रही है और बोर्ड परीक्षा शुरु होने वाली है जिसके कारण परिक्षार्थी तनाव में आ रहे हैं। उनमें घबराहट, तनाव एवं डिप्रेशन जैसी समस्या बढ़ती जा रही है।

डॉ. हरिनाथ यादव ने बताया कि इस समय कुछ खास बातें ध्यान रखना बहुत ही आवश्यक है। जैसे इस समय पैनिक होने की जरूरत नहीं है। एक निश्चित टाइम टेबल बनाकर पढ़ाई करें। पुराने साल के पेपर को देखकर की कैसे पेपर आये हैं उसी हिसाब से परीक्षा की तैयारी करना है। पढ़ाई करते समय एक-एक घण्टे के अन्तराल पर 5 से 10 मिनट का ब्रेक लें। ब्रेक के समय आप गाना सुन सकते हैं, चाय पी सकते हैं और कुछ समय निकालकर एक्सरसाइज भी करें। डॉ. हरिनाथ यादव ने बताया कि परीक्षा के समय में बच्चे तनाव में आकर सिगरेट या नशा का सेवन करने लगते हैं लेकिन इन सब चीजों से बचें।

डॉ. यादव ने कहा कि अभिभावकों से अनुरोध है कि बच्चों पर एकदम से दबाव न डालें, बच्चों की दिनचर्या पर ध्यान रखें। बच्चों को देखें कि बच्चा हमारा ठीक टाइम से खा पी रहा है, पढ़ रहा है। बच्चों से अनुरोध हैं कि परीक्षा के समय जब पेपर उनको मिलता है तो उसको ध्यानपूर्वक पढ़ें जो प्रश्न उनको आ रहा है सबसे पहले उसी से शुरुआत करें। जैसे-जैसे आप पेपर लिखना शुरू करते हैं। धीरे-धीरे आपका आत्मबल बढ़ने लगता है और आप पूरा पेपर सॉल्व कर देते हैं। अगर कोई प्रश्न नहीं आ रहा है तो 2 मिनट आप रिलैक्स हो जाइए और गहरी सांस लीजिए। धीरे-धीरे सांस को छोड़िए चिंतन करिये कि आपने जो जो पढ़ा है और जो उसके बारे में याद आ रहा है आप उसको लिखिये और परीक्षा देकर वापस घर लौटने पर कभी आपको प्रश्न अपनी किताब से चेक नहीं करना है। बस केवल आपको अगले पेपर की तैयारी करना है। 

अगर आपका प्रश्न गलत हो जाता है उस पर ध्यान नहीं देना है। केवल अगले पेपर की तैयारी करनी है। अगर गलत हुए प्रश्न का ध्यान रखेंगे तो आने वाले पेपर पर उसका असर पड़ेगा। परीक्षा खत्म हो जाए तो अपने आपको रिलैक्स रखें और किसी भी तरह से रिज़ल्ट के बारे में ना सोचें और अन्त जो होगा वह अच्छा होगा। अपने आपको हमेशा मोटिवेट करते रहें और सेल्फ कॉन्फिडेंस बनाये रखें। डॉ. यादव ने सभी बच्चों को प्यार और आशीर्वाद देते हुए परीक्षा की शुभकामनाएं दी। संगोष्ठी में श्रीमती प्रतिमा यादव, लालजी यादव, डॉ. सुशील यादव, आशुतोष सिंह, अवनीश, सूरज मौर्य, शिव बहादुर, पूनम, मौसम और हॉस्पिटल के समस्त स्टॉफ उपस्थित रहे।