• बड़े पैमाने पर प्रचार—प्रसार के बाद भी भीड़ जुटाने में नाकाम रही आयोजन समिति



सुजानगंज, जौनपुर। स्थानीय क्षेत्र के राष्ट्रीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय सुजानगंज में मुरलीधर पाठक चेरीटेबल ट्रस्ट के तत्वावधान में आयोजित कवि सम्मेलन एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम में एक तरफ जहां बड़े—बड़े सितारे एवं राजनैतिक हस्तियों का तांता लगा हुआ था, वहीं दूसरी ओर दर्शकों की संख्या इतनी कम थी कि आधे से अधिक कुर्सियां पूरी तरीके से खाली रहीं। बता दें कि उपरोक्त ट्रस्ट द्वारा सामूहिक विवाह कार्यक्रम सम्पन्न होने के ठीक बाद बड़े—बड़े फिल्मी कलाकारों, नृत्य एवं कवियों द्वारा किये जाने वाला सांस्कृतिक कार्यक्रम का बृहद रुप से आयोजन हुआ। उसको सफल बनाने में क्षेत्र की तमाम बड़ी हस्तियां लगी हुई थीं। काफी ऊंचे स्तर पर प्रचार—प्रसार भी किया गया परंतु जब सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रारंभ हुआ तभी से ही लोग कम आ रहे थे। 


वही हालत फिल्मी सितारों एवं कवियों के आने के बाद भी जारी रहा जिसके कारण मैदान की आधे से अधिक कुर्सियां पूरी तरीके से खाली दिखाई पड़ीं। सांस्कृतिक कार्यक्रम का आरंभ सर्वप्रथम स्थानीय विद्यालय के बच्चों की प्रस्तुति के साथ हुआ। रविन्द्र सिंह ज्योति के भक्ति गीत से कवि सम्मेलन शुरू हुआ जिसका संचालन दिनेश बावरा किये। प्रारंभ कविता तिवारी के सरस्वती वंदना से हुआ। कार्यक्रम में उपस्थित हास्य कवि अनिल चौबे ने जहां अपनी हास्य कविताओं से लोगों को अपनी तरफ आकर्षित किया, वहीं कविता तिवारी ने अपनी शानदार प्रस्तुति "हो सके तो बेटियां न मारना" तथा "मैं भारत वर्ष की बेटी हूं हरगिज डर नहीं सकती" जैसे सुंदर कविताओ से लोगों के बीच में ऊर्जा का संचार करने का प्रयास कि आगे की कड़ी में डिंडीया नृत्य, गंगा आरती के साथ अनुराग पंडित, नेहा दूबे, रितेश पान्डेय सहित उपस्थित कई कलाकारों ने शानदार प्रस्तुति की।