जौनपुर: बढ़ते वायु प्रदूषण के कारण लोगों के स्वास्थ्य पर पड़ रहा जानलेवा प्रभाव | #AAPKIUMMID - उम्मीद

Breaking

Saturday, December 29, 2018

जौनपुर: बढ़ते वायु प्रदूषण के कारण लोगों के स्वास्थ्य पर पड़ रहा जानलेवा प्रभाव | #AAPKIUMMID

जौनपुर। विकास खंड करंजाकला के धनेश्वर यादव महाविद्यालय मोकलपुर नेवादा में 100 प्रतिशत उत्तर प्रदेश अभियान एवं क्लाइमेट एजेंडा के निर्देशन में ग्रामीण विकास एवं प्रशिक्षण संस्थान तथा राष्ट्रीय सेवा योजना यूनिट के तत्वाधान में कैंपस मीट कार्यक्रम का आयोजन किया गया।
क्लाइमेट एजेंडा के कार्यकर्ता ओम प्रकाश ने बताया कि हालिया लासेट प्लेनेटरी हेल्थ रिपोर्ट के अनुसार वायु प्रदूषण के कारण केवल उत्तर प्रदेश में 2 लाख 60 हजार मौतें हुई है। ऐसी ही अनेकों रिपोर्ट आ रही है जो हमारी जहरीली हुई अबो हवा हाल बता रही है। शहर में बढ़ते डीजल पेट्रोल चलित वाहनों, अपशिष्ट पदार्थ जलाए जाने के कारण एवं मानकों की अनदेखी कर हो रहे निर्माण कार्यों के कारण परिणामस्वरूप वायु गुणवत्ता के आंकड़े 4-5 गुणा अधिक आ रहा है जो कि अपने घातक रूप में है। ऐसी गंभीर स्थिति में न तो जिला प्रशासन द्वारा और न ही प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा कोई ठोस कदम उठाया जा रहा है।
उन्होंने कहा कि इस आयोजन के माध्यम से आयोजक संस्था द्वारा आम जनता के समर्थन बढ़ते वायु प्रदूषण पर लगाम के लिए 6 सूत्रीय मांग रखी गई। जिसमें शहर में वायु गुणवत्ता सूचकांक एयूआई के उपकरणों की संख्या बढ़ाई जाए। कचरा निस्तारण के वैज्ञानिक पद्धति का प्रयोग हो साथ कचरा जलाए जाने पर कड़ी कार्रवाई हो। वायु गुणवत्ता के आधार पर रोजाना स्वास्थ्य सलाह जारी की जाए। डीजल पेट्रोल से चलने वाले वाहनों से हो रहे प्रदूषण की नियमित जांच किया जाए। सार्वजनिक एवं निजी निर्माण कार्य में मानकों का कड़ाई से पालन किया जाए। सभी डीजल पेट्रोल चालित शहरी सार्वजनिक वाहनों को स्वच्छ ऊर्जा आधारित किया जाए आदि है।
धनेश्वर यादव महाविद्यालय के संरक्षक रामकुमार व राममूरत ने कहा कि इस बढ़ते वायु प्रदूषण के कारण लोगों के स्वास्थ्य पर जानलेवा प्रभाव पड़ रहा है। वहीं सरकारी एवं निजी अस्पतालों में श्वास संबंधित रोगियों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। ऐसी गंभीर स्थिति स्पष्ट और स्वास्थ्य आपातकाल की स्थिति बयां कर रही है। इसीलिए शीघ्र ही जिला प्रशासन एवं प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को शहर आधारित स्वस्थ वायु कार्यनीति को कड़ाई से लागू किए जाने की आवश्यकता है।
उत्तर प्रदेश माॅगे स्वच्छ हवा से जुड़े शैलेंद्र निषाद एवं रमेश यादव ने बताया कि उत्तर प्रदेश में प्रदूषित हवा के कारण चार नवजात बच्चे प्रति घंटे की दर से दम तोड़ रहे हैं। हवा में मौजूद पी-एम-10 और पी-एम 2.5 भारत में पांचवें सबसे बड़े हत्यारे हैं। एक कारण हमारे श्वसन तंत्र को बुरी तरह प्रभावित करते हैं और हार्टअटैक के सबसे बड़े कारण हैं।
कॉलेज की शिक्षिका रीमा यादव, नंदिनी यादव, रेनू गुप्ता ने यूपी मांगें स्वच्छ हवा आधारित चेतना गीत एवं स्वागत गीत प्रस्तुत किया। महाविद्यालय से जुड़े जय प्रकाश, राम अजोर, शेर बहादुर, सदानंद, हरिशंकर भी अपने-अपने विचार रखे। कार्यक्रम का संचालन एवं सभी के प्रति धन्यवाद ज्ञापन शिक्षक नेता राम मूरत यादव अध्यापक ने किया।





DOWNLOAD APP



No comments:

Post a Comment

नीचे दिए गए प्लेटफार्मों से जुड़कर लगातार पढ़ें खबरें...

-----------------------------------------------------------
हमारे न्यूज पोर्टल पर सस्ते दर पर कराएं विज्ञापन।
सम्पर्क करें: मो. 8081732332, 9918557796
-----------------------------------------------------------
आप की उम्मीद न्यूज पोर्टल
डिजिटल खबर एवं विज्ञापन के लिए सम्पर्क करें।
मो. 8081732332, 9918557796
-----------------------------------------------------------


-----------------------------------------------------------


-----------------------------------------------------------

Post Bottom Ad